Wednesday, May 10, 2017

काशी की अमर विभूति प.धर्मशील चतुर्वेदी जी का जयन्ती समारोह

आज काशी की अमर विभूति प.धर्मशील चतुर्वेदी जी की जयन्ती है जिनका हाल ही में देहांत हो गया था | इस अवसर पर बनारस के साहित्य, चित्रकला, लेखनसे जुड़े लोगों ने कविताओं, गजलों, और संस्मरण के माध्यम से अपनी श्रद्धांजलि प्रस्तुत की | मैंने भी उनपर लिखी रचना के जरिए अपनी संवेदना प्रकट किया | इस अवसर पर प. हरिराम द्विवेदी, श्री जितेन्द्र नाथ मिश्र,प. मदन मोहन चौबे, सांड बनारसी, अख्तर बनारसी, श्री मान बहादुर सिंह आदि काशी के गणमान्य नागरिकों सहित उपस्थित थे |  इस अवसर पर मेरी कुछ पंक्तियाँ...

"धर्मशील जी व्यक्ति नहीं थे, संस्कृति के संवाहक थे |
काशी की हर एक सभा के आजीवन संचालक थे |
काशी की हर एक सभा में अट्टहास उनका गूँजा,
उनके जैसा जिंदादिल अब और नहीं कोई दूजा,
कला-पारखी, ज्ञानवान थे,निश्छल मानों बालक थे.....
धर्म, कला, साहित्य सभी पर, उनका दखल बराबर था,
न्यायालय या कोई सभा हो सबमे उनका आदर था,
व्यंग्यकार, अधिवक्ता, उम्दा लेखक और विचारक थे....."





















Sunday, November 6, 2016

सम्मान समारोह और पराड़कर जयन्ती

आज नागरी प्रचारिणी सभा में मुम्बई से आये दो शायरों श्री लक्ष्मण दूबे और शमीम अब्बास जी का सम्मान समारोह हुआ जिसमें बनारस के कवि और शायर डा. ब्रजेन्द्र नारायण द्विवेदी जी की एक गीत और एक ग़ज़ल की पुस्तक का विमोचन भी हुआ। इस अवसर पर प. हरिराम द्विवेदी, श्री जितेंद्र नाथ मिश्र , श्री मेयार स्नेही, श्री केशव शरण, श्री सुरेंद्र वाजपेयी,श्री ओम धीरज, श्री नरोत्तम शिल्पी, श्री कुंवर सिंह कुंवर, श्री अलकबीर आदि बनारस के कई स्वनामधन्य साहित्यकार उपस्थित थे।कार्यक्रम का संचालन जाने माने ग़ज़लकार और 'समकालीन स्पंदन' के संपादक श्री धर्मेंद्र गुप्त 'साहिल' ने किया। इस अवसर के कुछ छायाचित्र:-



 आज पराड़कर जी की जयन्ती के अवसर पर पराड़कर भवन में एक गोष्ठी का आयोजन भी हुआ जिसमे पराड़कर जी के पत्रकारिता में योगदान के साथ वर्तमान चुनौतिओं पर भी चर्चा की गयी |



Tuesday, August 30, 2016

शाश्वत कृष्णायन का लोकार्पण

         दिनांक 27-8-2016 को मेरे पिताजी श्री मदन मोहन चतुर्वेदी की पुस्तक "शाश्वत कृष्णायन" का विमोचन (लोकार्पण) श्रृंगेरी मठ, महमूरगंज वाराणसी में श्री महेंद्रनाथ पांडेय मानव संसाधन राज्यमंत्री, भारत सरकार द्वारा संपन्न हुआ। इसके पूर्व पिताजी "शाश्वत रामायण" की रचना भी कर चुके हैं जिसका लोकार्पण तत्कालीन सर संघचालक श्री कुप्पाहाली सीतारमय्या सुदर्शन  जी ने 2006 में किया था |
                                    
बाएं से पंडित मदन मोहन चतुर्वेदी (रचनाकार), केंद्रीय ब्राह्मण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सतीशचंद्र मिश्र, मानव संसाधन राज्यमंत्री डा. महेंद्र नाथ पांडेय, काशी विद्वत परिषद् के अध्यक्ष महामहोपाध्याय प्रो. रामयत्न शुक्ल और संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. यदुनाथ दूबे जी शाश्वत कृष्णायन के विमोचन के दौरान......
कार्यक्रम के प्रारम्भ में मुख्य अतिथि दीप प्रज्ज्वलन करते हुए (ऊपर)...... 
नीचे कार्यक्रम और मंच पर उपस्थित विद्वतजनों के कुछ अन्य फोटो....












          बाएं से पंडित मदन मोहन चतुर्वेदी (रचनाकार), केंद्रीय ब्राह्मण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सतीशचंद्र मिश्र, मानव संसाधन राज्यमंत्री डा. महेंद्र नाथ पांडेय, काशी विद्वत परिषद् के अध्यक्ष महामहोपाध्याय प्रो. रामयत्न शुक्ल और संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. यदुनाथ दूबे जी शाश्वत कृष्णायन के विमोचन के दौरान......
कार्यक्रम के प्रारम्भ में मुख्य अतिथि दीप प्रज्ज्वलन करते हुए (ऊपर)...... 
नीचे कार्यक्रम और मंच पर उपस्थित विद्वतजनों के कुछ अन्य फोटो....






Saturday, May 25, 2013

बनारस के शायर/मेयार सनेही


मैं इस ब्लाग का शुभारम्भ बनारस के जाने माने मशहूर शायर ज़नाब "मेयार सनेही"जी से कर रहा हूँ। इनका जन्म ०७-०३-१९३६ में हुआ। बनारस के कवि सम्मेलनों, कवि गोष्ठियों और मुशायरों को अपने शेरों से आप एक नई ऊँचाई प्रदान करते हैं । आप की ग़ज़लें,नज़्म विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में समय समय पर छपती आ रही हैं और आप की १९८४ में एक नज़्म की पुस्तक "वतन के नाम पाँच फ़ूल" भी प्रकाशित हो चुकी है। लगभग ४० सालों से आप साहित्य सर्जना में लगे हैं और ये क्रम अभी जारी है।
निवास-एस.७/९बी,गोलघर कचहरी,वाराणसी।
सम्पर्कसूत्र-९९३५५२८६८३



तो लीजीए उनकी ग़ज़लों का आनन्द........

1. ग़ज़ल/ कैसे वो पह्चाने ग़म :-

कैसे वो पह्चाने ग़म ।
पत्थर है क्या जाने ग़म।


दुनिया मे जो आता है,
आता है अपनाने ग़म।

नये गीत लिखवाने को,
आये किसी बहाने ग़म।

जब तक मेरी साँस चली,
बैठे रहे सिरहाने ग़म।

मैनें सोचा था कुछ और,
ले आये मयख़ाने ग़म।

जिसको अपना होश नहीं,
उसको क्या गरदाने ग़म।

दिल सबका बहलाते हैं,
जैसे हों अफ़साने ग़म।

क्या कहिये ’मेयार’ उसे,
जो खुशियों को माने ग़म।

 -------------------------------------
2. ग़ज़ल/ मोहब्बत की नुमाइश चल रही है :-

मोहब्बत की नुमाइश चल रही है।
मगर परदे में साजिश चल रही है।


वो बातें जिनसे मैं जख़्मी हुआ था,
अब उन बातों में पालिश चल रही है।

वो इक सजदा जो मुझसे हो न पाया,
उसी को लेके रंजिश चल रही है।

वो देखो जिन्दगी ठहरी हुई है,
मगर जीने की ख़्वाहिश चल रही है।

कोई ’मेयार’ होगा जिसकी खातिर,
सिफ़ारिश पर सिफ़ारिश चल रही है।

 ---------------------------------------
3.ग़ज़ल/मेयार सनेही/कौन बे-ऐब है पारसा कौन है :-

कौन बे-ऐब है पारसा कौन है ?
किसको पूजे यहाँ देवता कौन है ?


जब चलन में है दोनों तो क्या पूछना,
कौन खोटा है इनमें खरा कौन है ?

ज़हर देता रहे औ’ मसीहा लगे,
आप जैसा यहाँ दूसरा कौन है?

रूप है इल्म है सौ हुनर हैं मगर,
ऐसी चीजों को अब पूछता कौन है?

अन्न उपजाने वाला मरा भूख से,
इस मुक़द्दर का आख़िर ख़ुदा कौन है ?

कौन ’मेयार’है यह नहीं है सवाल,
ये बताएँ कि वो आपका कौन है ?

 ----------------------------------------------------
4. ग़ज़ल/ हसीं भी है मोहब्बत की अदाकारी :-

हसीं भी है मोहब्बत की अदाकारी भी रखता है।
मगर उससे कोई पूछे वफ़ादारी भी रखता है ।


इलाजे-जख़्मे-दिल की वो तलबगारी भी रखता है,
नये जख़्मों की लेकिन पूरी तैयारी भी रखता है।

इक ऐसा शख्स मेरी ज़िन्दगी में हो गया दाख़िल,
जो मुझको चाहता है मुझसे बेज़ारी भी रखता है।

वो मत्था टेकता है गिड़गिड़ाता है कि कुछ दे दो,
फ़िर उसके बाद ये दावा कि खुद्दारी भी रखता है।

वही है आजकल का बागबाँ जो हाथ में अपने,
दरख़्तों की कटाई के लिये आरी भी रखता है।

ख़ुदा के नाम पर भी तुम उसे बहका नहीं सकते,
वो दीवाना सही लेकिन समझदारी भी रखता है।

तुम उसके नर्म लहजे पर न जाओ ऐ जहाँ वालों,
वो है ’मेयार’ जो लफ़्जों में चिनगारी भी रखता है।
----------------------------------------------
मेयार सनेही जी ने नये-नये रदीफ़ और काफ़िया को लेकर कई ग़ज़लें कही हैं जैसे इस ग़ज़ल में.........

5. ग़ज़ल/ इक गीत लिखने बैठा था :-

इक गीत लिखने बैठा था मैं कल पलाश का।
ये बात सुन के हँस पडा़ जंगल पलाश का ।


साखू को बे-लिबास जो देखा तो शर्म से,
धरती ने सर पे रख लिया आँचल पलाश का।

रितुराज के ख़याल में गुम होके वन-परी,
कब से बिछाये बैठी है मख़मल पलाश का।

सूरज को भी चराग़ दिखने लगा है अब,
बढ़ता ही जा रहा है मनोबल पलाश का।

रंगे-हयात है कि है मौसम का ये लहू,
या फ़िर किसी ने दिल किया घायल पलाश का।

तनहा सफ़र था राह के मंजर भी थे उदास,
अच्छा हुआ कि मिल गया संबल पलाश का।

’मेयार’ इन्कलाब का परचम लिये हुए,
उतरा है आसमान से ये दल पलाश का।


नशिस्त-5/मेयार सनेही

Friday, May 24, 2013

बनारस के कवि/शायर-केशव शरण

बनारस के कवि/शायर में इस बार केशव शरण की रचनाएं आप के लिये प्रस्तुत है। केशव शरण बनारस के जाने -पहचाने रचनाकार हैं। इनका जन्म 23-08-1960 को वाराणसी में हुआ, आप के पिता स्व० शिवब्रत सिंह यादव और माता का नाम श्रीमती बासमती देवी है और आप सरकारी सेवा में हैं। आप की प्रकाशित रचनाएं हैं- ‘तालाब के पानी में लड़की’, ‘जिधर खुला व्योम होता है’ [दोनों कविता-संग्रह], ‘दर्द के खेत में’ [ग़ज़ल-संग्रह] और ‘कडी़ धूप में’ [ हाइकू-संग्रह ]।








1. कौन अब है आने वाला :-

कौन अब है आने वाला ।
जा चुका है जाने वाला  ।   


हाथ मलता रह गया है,

पा न पाया पाने वाला ।


कौन उसको चुप कराये,

रो रहा है गाने वाला ।


तू तो थोडी़ दे तसल्ली,
हर कोई है ताने वाला ।


दर्द से वाकि़फ़ नहीं है,
दिल को वो समझाने वाला ।


क्या न ये उल्फ़त कराये,
काम ये दीवाने वाला ।


हो नहीं सकता है कोई,

उसके जैसा भाने वाला ।


छीन बैठा चांद मेरा,
मेघ काला छाने वाला ।


अब नहीं आबाद होगा,

मेरा घर वीराने वाला

 --------------------------- 

2. मुहब्बत के पीछे ज़माना पडा़ है :-

मुहब्बत के पीछे ज़माना पडा़ है।
मुझे प्यार अपना छुपाना पडा़ है।   


बुरा होता दुनिया को नाराज़ करना,

मुझे अपने दिल को दुखाना पडा़ है।


यहाँ आज खुशियों के लाले हुए हैं,

जहां पर ग़मों का ख़ज़ाना पडा़ है।


जो मैं रो रहा था तो कोई न रोया,
सभी गा रहे हैं तो गाना पडा़ है।


बगा़वत कहीं इससे आसान होती,
मुझे खु़द को जितना मनाना पडा़ है।


नहीं कोई विश्वास रिश्तों पे हमको,
मगर जग के नाते निभाना पडा़ है।


कहाँ तेरे आगोश में मस्त रहता,

कहाँ पस्त तेरा दीवाना पडा़ है।

----------------------------------
 

3. बयां क्या दूं सफ़र की मुश्किलों पर :-

बयां क्या दूं सफ़र की मुश्किलों पर।
ये राहें ले न जाती मंजिलों पर।
 


बिखर जाना है इनको बीहडो़ में,
भरोसा क्या करूँ मैं काफ़िलों पर। 


 मैं तनहाई का जो इल्जाम धरता,
तो जाता वो तुम्हारी महफ़िलों पर।


बहुत भारी है दिलबर को गवाना,

जमाने भर के सारे हासिलों पर।  


कोई-कोई समुन्दर में उतरता,
पडी़ रहती है दुनिया साहिलों पर।

 ------------------------------- 

4. अजब मैं भी जफ़ाओं पर फ़िदा हूँ :-

अजब मैं भी जफ़ाओं पर फ़िदा हूँ।
हसीनों की अदाओं पर फ़िदा हूँ


बरसना जो नहीं कुछ जानती हैं,

उन्हीं रंगी घटाओं पर फ़िदा हूँ।
   


पुराना पेड़ सूखा जा रहा है,

अमरबेलों,लताओं पर फ़िदा हूँ।


वतन की खुश्बुएं ले जा रहीं है,

विदेशों की हवाओं पर फ़िदा हूँ।


ग़रीबी भूल जाता हूँ मैं अपनी,

अमीरी की कथाओं पर फ़िदा हूँ।


अकेलापन नहीं जाता है लेकिन,
मैं इन्दर की सभाओं पर फ़िदा हूँ


जो मायावी बदन की मालकिन है,
मैं ऐसी आत्माओं पर फ़िदा हूँ।


बढा़ ही जा रहा है मर्ज़ मेरा,

मगर तेरी दवाओं पर फ़िदा हूँ।

-----------------------------------


 5. अभी इतिहास का वो पल नहीं :-

अभी इतिहास का वो पल नहीं आया तो आयेगा।
हमारा वो सुनहरा कल नहीं आया तो आयेगा। 


उम्मीदों के सहारे ही तो दुनिया चल रही है ये,
समस्याओं का कोई हल नहीं आया तो आयेगा।


जमाने से ये माली कह रहे हैं पेड़ अच्छा है,

अगर इस साल उस पर फल नहीं आया तो आयेगा।


डगर की शर्त पूरी है मुसाफ़िर चल पडा़ होगा,
नहर में गर लहर कर जल नहीं आया तो आयेगा।


नजूमी कह रहा है देखकर हाथों की रेखाएं,
तुम्हारा भाग्य है चंचल नहीं आया तो आयेगा।


किसी का हुश्न है मग़रूर क्या मिलना ग़रीबों से,

किसी का इश्क है पागल नहीं आया तो आयेगा।


जिसे हो देश की चिन्ता,जिसे परवाह जनता की,
कभी सरकार में वो दल नहीं आया तो आयेगा।


निवास- एस.2/564, सिकरौल,वाराणसी
मोबाइल नं०-9415295137

Thursday, May 23, 2013

शेर-ए-नशिस्त-4/केशव शरण

Friday, December 14, 2012

बनारस के कवि/शायर-आनंद परमानंद

बनारस के शायरों में आनन्द परमानन्द का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। इस बार आप इन्हीं की रचनाओं का आनन्द उठायेंगे।
आनन्द परमानन्द जी का जन्म १ मई सन १९३९ ई० को हुआ। आपके पिताजी का नाम स्व० पुरुषोत्तम सिंह तथा आपका जन्म स्थान ग्राम-धानापुर, पो०-परियरा,जिला-वाराणसी है। आप गीत ग़ज़लों के काव्यमंचों के चर्चित कवि हैं तथा आप की निबन्ध लेखन, प्राचीन इतिहास और पुरातत्व में बेहद रुचि है। आप की प्रकाशित पुस्तकें हैं :- वाणी चालीसा, सड़क पर ज़िन्दगी [ग़ज़ल संग्रह] आदि।






1.  ज़िन्दगी रख सम्भाल कर साथी :-

ज़िन्दगी रख सम्भाल कर साथी।
अब न कोई मलाल कर साथी।


जिनके घर रौशनी नहीं पहुँची,
उन ग़रीबों का ख्याल कर साथी।


गाँजना मत विचार के कूड़े,

फेंक दो सब निकाल कर साथी


जिनके उत्तर तुम्हें नहीं मिलते,

अपने भीतर सवाल कर साथी।


वक्त तुमको निहारता है रोज़,

आँख में आँख डालकर साथी।


कोई तेरा नहीं ज़माने में,
मत रखो भ्रम ये पालकर साथी।


देखकर यह मिज़ाज जोखिम का,

वक्त का इस्तेमाल कर साथी।

--------------------------

 2. सघन कुंज की ओ!लता-वल्लरी सी :-

सघन कुंज की ओ!लता-वल्लरी सी।
सुवासित रहो भोर की पंखुरी सी।


मैं आसावरी राग में गा रहा हूँ,

तू बजती रहो रात भर बांसुरी सी।


नमित लोचना-सौम्य-सुंदर,सुअंगी,

मेरे गंधमादन की अलकापुरी सी।


महारात्रि की देवि मातंगिनी सी,

मेरी जिन्दगी है खुली अंजुरी सी।


ये यौवन,ये तारुण्य,ये शब्द सौरभ,

हो परिरम्भ की मद भरी गागरी सी।


मेरी आँख की झील में तैर जाओ,

परी देश की ओ नशीली परी सी।


तू कविता की रंगीन संजीवनी है,

सुरा-कामिनी काम कादम्बरी सी।


मैं तेरे लिये फिर से ’आनंद’ में हूँ,
न जाओ अभी रात तुम बावरी सी।

---------------------------------
 
3. अब नहीं दशरथ नहीं रनिवास है :-

अब नहीं दशरथ नहीं रनिवास है।
राम सा लेकिन मेरा बनवास है।


शुभ मुहूरत क्या पता इस देश में,

जन्म से अब तक यहाँ खरमास है।


वक़्त घसियारे के हाथों कट रही,

रात-दिन जैसे उमर की घास है।


शहर से गुस्से में आयी जो इधर,

मौत का कल मेरे घर अभ्यास है।


सभ्यता ने कल कहा ऐ आदमी,

अब तो मैंने ले लिया सन्यास है।


ज़िन्दगी शिकवा करे फुर्सत कहाँ,

हर तरफ पूरा विरोधाभास है।


क्या पता घर का लिखूँ ऐ दोस्तों,

हर गली,हर मोड़ पर आवास है।


अर्थ तो निर्भर है सचमुच आप पर,

शब्द का भावों से पर विन्यास है

 -------------------------------------
4. प्रगति के हर नये आयाम को वरदान कह देना :-

प्रगति के हर नये आयाम को वरदान कह देना।
नये बदलाव को इस दौर का सम्मान कह देना।

न मज़हब-धर्म, छूआ-छूत,मानव-भेद तू कहना,
अगर इतिहास पूछेगा तो बस इंसान कह देना।


कहीं जब भी चले चर्चा तुम्हारे देश गौरव की, 

भले मरुभूमि है लेकिन तू राजस्थान कह देना।

बदलती मान्यताओं में कठिन संघर्ष होते हैं,

 जो छूटा भीड़ में खोता है वो पहचान कह देना।

चुनावों की खुली रंजिश से हालत गांव की बिगडी़, 

हैं चिंता में बहुत डूबे हुए खलिहान कह देना।

जो शासन आम जनता की हिफ़ाज़त कर नहीं सकता,
समय उसको बदल देता है ये श्रीमान कह देना।


व्यवस्था चरमराकर धीरे-धीरे टूट जाती है,
उपेक्षित हो गये शासन में यदि विद्वान कह देना।


हों जलसे या अनुष्ठानों के व्रत-पर्वों के पारायण,
खु़दा या राम कहना और हिन्दुस्तान कह देना

-------------------------------------------------
 

5क्या कहूँ किन-किन परिस्थितियों में कब होता हूँ मैं :-

क्या कहूँ किन-किन परिस्थितियों में कब होता हूँ मैं।
आप यह कि हल के बैल सा जोता हूँ मैं।

खो न जाऊँ भीड़ में छोटी चवन्नी की तरह,
रोज़ खु़द को वक़्त की इस जेब में टोता हूँ मैं।

जानकर मौसम नहीं खुशियाँ उगा सकता कभी,
टूटता विश्वास फिर भी कोशिशें बोता हूँ मैं।

मुझको सहलाती है पीडा़ अपने बेटे की तरह,
जब कमी होती है अक्सर प्यार में, रोता हूँ मैं।

नम हुई आँखें तो पलकें मूंद लेता हूँ मगर,
सोचना मत ज़िन्दगी मेरी कभी सोता हूँ मैं।

फिर हैं चौकन्ना समस्यायें बहेलिये की तरह,
देखना ऐ सांस! तेरा पालतू तोता हूँ मैं।

Wednesday, July 18, 2012

बनारस के कवि और शायर/ श्री विन्ध्याचल पाण्डेय

       आज मैं बनारस के एक काव्यजगत के अप्रतिम हस्ताक्षर और मेरे मित्र श्री विन्ध्याचल पाण्डेय की रचनाएं आप के समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ। श्री विन्ध्याचल पाण्डेय बनारस काव्य-मंचों के बहुत ही मशहूर कवि हैं और ये अपनी कविता में नये तेवर के लिए जाने जाते हैं। आशा है आपको ये रचनाएं पसन्द आयेंगी....


ग़ज़ल-1

अजीब बात अजीब दौर अजब लोग यहाँ।
न जाने कौन-सा फैला हुआ है रोग यहाँ।


उपनिषद, वेद, संहिताएं कौन गुनता है,
बदल कलेवर हुआ योगा अब तो योग यहाँ।


धर्म के मर्म से अनजान इण्डिया वाले,
त्याग, वैराग्य पर भारी है अब तो भोग यहाँ।


डूबती नाव, भंवर और नशे में माझी,
बन रहा इस तरह हठाग्रही कुयोग यहाँ।


अर्थ के फेर में अनर्थ का समर्थन है,
उदारता में उदारीकरण का सोग यहाँ।

-------------------------------------------
ग़ज़ल-2

सच न कहेंगे, सच न सुनेंगे, इसलिए हम है आज़ाद।
सुरा-सुन्दरी, भ्रष्टाचार जिन्दाबाद, जिन्दाबाद।


सुविधा-शुल्क और महंगाई, इसीलिए सरकार बनाई,
कौन सुनेगा किसे सुनाएं अब जाकर जनता फरियाद।


सूर, कबीर, निराला, तुलसी, गालिब, मीर मील के पत्थर,
नई फसल के लिए शेष है अब तो केवल वाद-विवाद।


सेण्टीमेण्ट विलुप्त हो रहा, इन्स्ट्रुमेन्टल प्यार हो गया,
झूम रहे हैं, घूम रहे हैं, कौन करे इसका प्रतिवाद।


क्षेत्रवाद, आतंकवाद को भाषा, धर्म से जोड़ा,
सत्ता वाली कुर्सी खातिर, करते नए-नए इजाद।

Friday, June 18, 2010

बनारस के कवि और शायर/रामदास अकेला

बनारस के शायर की अगली कडी़ में रामदास अकेला जी की रचनाएं प्रस्तुत हैं।आप की जन्मतिथि है २४-०३-१९४२|जन्मतिथि है-ग्राम-लखनेपुर,पो०-घनश्यामपुर जिला-जौनपुर| आप के पिता का नाम है- स्व० बलीराम भगत।आप प्रवर अधीक्षक [डाक विभाग] के पद से सेवा निवृत्त होकर साहित्य सेवा में संलग्न है।गीत,ग़ज़ल,मुक्तक एवं नवगीतों की रचना आप को विशेष रूप से पसन्द है।आप द्वारा रचित ‘आईने बोलते हैं’ ग़ज़ल संग्रह 1999 में प्रकाशित।आप की बहुत सी रचनाएं दूरदर्शन और आकाशवाणी पर प्रसारित हो चुकी हैं।आप अदबी-संगम[हिन्दी-उर्दू साहित्यिक संस्था]वाराणसी के अध्यक्ष तथा प्रगतिशील लेखक संघ के उपाध्यक्ष भी रहे |

1. कैसे-कैसे इसे गुजारी है :-

कैसे-कैसे इसे गुजारी है।
ज़िन्दगी यार फिर भी प्यारी है।

मालोज़र की कोई कमी तो नही,
हाँ मगर प्यार की दुश्वारी है।

ज़िन्दगी कौन कब तलक ढोता,
ये तो खु़द मौत की सवारी है।

बाप मरता तो भला कैसे वो,
जिसकी बेटी अभी कुँवारी है।

भार से डालियों के टूट रहे,
ये दरख्तों की अदाकारी है।

ये तो गुज़री है नींद में यारों,
भरम रहा कि शब्बेदारी है।

होश में कैसे ’अकेला’ रहता,
होशवालों में मारामारी है।


--------------------------------

2. ज़िन्दगी के वास्ते क्या-क्या है :-

ज़िन्दगी के वास्ते क्या-क्या है करता आदमी।
अपनी ही परछाइयों से डर के मरता आदमी।

अपने हक़ में कोई भी तामीर क्या कर पायेगा,
खण्डहरों की ईंट सा खुद ही बिखरता आदमी।

रख दिया है आईना जबसे सड़क के बीच में,
मुँह बनाता फेरकर चेहरा बनाता आदमी।

रंग, नस्लों, धर्म,मज़हब जातियां दर जातियां,
अनगिनत फिरकों में जुड़ता और बिखरता आदमी।

थे ज़मीं था आसमां परवाज में इसके कभी,
परकटे पंछी सा है अब फड़फडा़ता आदमी।

दावतों के बाद जूठन फेंक देता जब कोई,
ढेर पर कुडे़ के चुन कर पेट भरता आदमी।

किस कदर नाराज़ लगता है ये अपने आप से,
बुदबुदाता फिर रहा है पागलों सा आदमी।

ज़िन्दगी भर दूसरों की फ़िक्र में उलझा रहा,
अपने बारे में कभी कुछ फ़िक्र करता आदमी।

एक मुट्ठी खा़क पर करता रहा इतना गुमान,
काश मिट्टी की हकी़क़त को समझता आदमी।

अपनी इक पहचान तो इसको बनानी चाहिए,
काफ़िले के साथ हो या हो अकेला आदमी।


-----------------------------------------

3.बोलियाँ अब न भाषाएं वही :-

बोलियाँ अब न भाषाएं वही।
कब तलक गायेंगे गाथाएं वही।

कारवां लेकर हमारा चल पडे़,
जो खडी़ करते हैं बाधाएं वही।

आँख के अन्धे हैं लेकिन लिख रहे,
कौम के माथे की रेखाएं वही।

हम रहे अब भी लकीरों के फकीर,
तोड़ते अक्सर हैं सीमाएं वही।

अस्मिता जिनसे वतन की दावं पर,
हाय वन्देमातरम गाएं वही।

चीखते हैं जो धरम के नाम पर,
नफ़रतों की आग भड़काएं वही।

हाथ में लेकर चले हो आईना,
देखना पत्थर न फिर आएं वही।

चल ‘अकेला’कुछ नई बातें करें,
मत सुनाना फिर से कविताएं वही।

------------------------------------------

4. चढ़ तो गये ऊँचाइयों पे धूमधाम से :-

चढ़ तो गये ऊँचाइयों पे धूमधाम से।
बदली नज़र तो गिर पडे़ औंधे धडा़म से।

करता रहा सलाम,कभी झुक के दूर से,
करने लगा है बात वही तुम-तडा़म से।

बदले हुए मौसम की ये तासीर खूब है,
मेढक भी परेशान है सर्दी-जु़काम से।

हाथों से निकल तोते बहुत दूर उड़ गये,
रखा था जिन्हें हमने बहुत एहतेमाम से।

औरों के हाल पर तो हँसे भूल क्यूँ गये,
तुमको भी गुजरना है कभी उस मुकाम से।

गुम होके रह गया है इसी भीड़ में कहीं,
निकला तो ‘अकेला’ था किसी और काम से।


-------------------------------------------

5. संसद से सड़कों तक देखा :-

संसद से सड़कों तक देखा सब उद्योग लगे।
बेकारी से फिर भी जूझते हमको लोग लगे।

खुद क्या थे,क्या हैं,क्या होंगे;क्या मालूम उन्हें,
औरों का कद छोता करने में जो लोग लगे।

वो क्या जाने भूख की शिद्दत कीमत रोटी की,
भक्तों के आटा-घी से ही जिनका भोग लगे।

हम खोये रहते तलाश में जीवन भर जिसकी,
उनकी नज़र में एक समाधी और संभोग लगे।

ईर्ष्या,द्वेष,अहं और नफरत,लालच,बेइमानी;
एक बेचारे मन को जाने कितने रोग लगे।

तनहाई में यूँ ही अकेला भटकेगा कब तक,
साथ तुम्हारे लोग भी आयें कब संयोग लगे।

श्रद्धांजलि/रामदास ‘अकेला’

प्रिय मित्रों, वाराणसी के काव्य-संसार के एक सशक्त हस्ताक्षर श्री रामदास ‘अकेला’ जी ( जिनकी गज़लें आप ‘‘बनारस के कवि और शायर/रामदास अकेला’’ में पढ़ चुके हैं ) ; इस नश्वर दुनिया को छोड़ गये। वाराणसी से बाहर होने के कारण मुझे इसका पता देर से चला....... दिवंगत काव्यात्मा को मेरी ओर से विनम्र श्रद्धांजलि...........

Saturday, March 20, 2010

बनारस के शायर /नरोत्तम शिल्पी

बनारस के कवि/शायर में इस बार आप नरोत्तम शिल्पी की रचनाओं का आनन्द उठायेंगे।नरोत्तम शिल्पी का जन्म २० जनवरी सन १९४५ को काज़ीपुरा खुर्द,औरंगाबाद,वाराणसी में हुआ।आपके पिताजी का नाम मेवालाल विश्वकर्मा तथा माता का नाम श्रीमती राजकुमारी देवी है।आप मुर्तिकला और चित्रकला के जानकार हैं और इसी लिये आप ’शिल्पी’ नाम से जाने जाते हैं।आप की संगीत और नाट्य में बेहद रुचि रखते हैं।आप की प्रकाशित पुस्तक है-बुतों के बीच।आप का पता है-सी-८/२८ चेतगंज,वाराणसी।यहाँ इनकी चार ग़ज़लें और एक गीत प्रस्तुत है-




1. वक्त की शायद ये हैं अंगडा़इयाँ :-

वक्त की शायद ये हैं अंगडा़इयाँ।
हैं जुदा मुझसे मेरी परछाइयाँ। 


क्यूं कहूँ तनहा कभी मैं ना रहा,
भीड़ में हैं खल रहीं तनहाइयाँ।


धुन सुनी है जिन्दगानी के खि़लाफ़,
मौत की दस्तक हैं ये शहनाइयाँ।


कर रहे थे रहबरी जो एक दिन,
खोदते हैं अब तो वे ही खाइयाँ।


साथ में आया हूँ जिसके मैं यहाँ,
हो मुबारक उसको ये ऊँचाइयाँ।


नाम शिल्पी का बहुत बदनाम है,
क्या हुआ,बढ़ जायेगी रुसवाइयाँ।


--------------------------

2. दबे पाँव आती है यादें तुम्हारी :-

दबे पाँव आती है यादें तुम्हारी।
उसी दम मचलती है धड़कन हमारी।


कलम साथ होती नहीं है हमेशा,
तसव्वुर बनाता है तस्वीर प्यारी।


हुए चन्द अशआर तेरी बदौलत,
भरी गोद कागज़ की जो थी कुँआरी।


न आए न आए कहा पर न आए,
भरे आह ये मज्बूरियाँ ये बेचारी।


करम है सनम का लुटाता है जलवा,
तबर्रुख में उलझा सनम का पुजारी।


रहम कर के क्या दे दिया ये तो सोचो,
भला कैसे जिये ये भूखा भिखारी।


जरा साथ बैठो कहीं पर कभी भी,
सुनाएं कि ’शिल्पी’ ने कैसे गुजारी।


-------------------------------------

3. ऐसी पेचीदगी कहाँ होगी :-

ऐसी पेचीदगी कहाँ होगी।
अपनी सी ज़िन्दगी कहाँ होगी।


दर्द सहता ही नहीं पीता हूँ,
इतनी बेचारगी कहाँ होगी।


तंग दस्ती में समझना आसां,
कितनी पाबन्दगी कहाँ होगी।


फूल तो गढ़ के बना सकता हूँ,
पर वही ताज़गी कहाँ होगी।


बोझ इतना लदा है काँधे पर,
मुझसे आवारगी कहाँ होगी।


हाथ उठते नहीं दुआ के लिए,
फिर तो अब बन्दगी कहाँ होगी।


मयकदा बन्द पडा़ है कबसे,
चल के फिर रिन्दगी कहाँ होगी।


हूँ तो सादामिज़ाज पर ’शिल्पी’,
फ़न में वो सादगी कहाँ होगी ।


--------------------------

4. बैठे हैं क्यूं तनहा-तनहा :-

बैठे हैं क्यूं तनहा-तनहा।
मैं भी तो हूँ तनहा-तनहा।


पास चलूं क्या सोचेंगे वो,
बस ये सोचूँ तनहा-तनहा।


संबंधो में अरमानों का,
होता है खूँ तनहा-तनहा।


जो पाया सब जग जाहिर है,
खोकर ढूढूँ तनहा-तनहा।


मंजिल कितनी दूर अभी है,
पग-पग नापूँ तनहा-तनहा।


सारे साथी भूखे होंगे,
कैसे खालूँ तनहा-तनहा।


रिश्ते सबके आगे-पीछे,
किसको मानूँ तनहा-तनहा।


तोड़ के बन्धन हर रिश्ते का,
जाते हैं यूँ तनहा-तनहा।


दर्द बुतों का सुनने वाला,
’शिल्पी’ है तू तनहा-तनहा।


---------------------------

5. गीत/ देते रहना प्यार सभी को :-

देते रहना प्यार सभी को,
लेते रहना प्यार सभी से

 करके देखो खूब मिलेगी,
इज्जत तुमको यार सभी से।

जिसकी कद्र करोगे तुम,
निश्चित वह कद्र करेगा।
प्यार कदाचित जिसको दोगे,
तुमको भद्र कदेगा।
थोडी़ सी खुदगर्जी आई,
पाओगे धिक्कर सभी से.............

खरी बात खोटी कहलाती,
लगती बहुत बुरी है।
स्वाभिमान पर ठेस लगे और,
दिल पे चले छुरी है।
मीठी बोली बोलोगे तो,
लूटोगे सत्कार सभी से.....

दुनिया वाले इक दूजे से,
रखते खूब अपेक्षा।
प्रतिफल अच्छा नहीं मिला तो,
करते खूब उपेक्षा।
करो समीक्षा,पुनः प्रतीक्षा,
कहता समय पुकार सभी से......

सींग,नुकीले दंत और नख,
द्वन्द्व हेतु पाया हर प्राणी।
हर से मिली पृथक मानव को,
बुद्धि,जिह्वा,वाणी।
प्रतिद्वन्दी ’शिल्पी’ बहुतेरे,
रखना शुद्ध विचार सभी से........

Friday, December 18, 2009

एक शायर/विनय मिश्र


जैसा कि आप जानते हैं कि एक शायर स्तम्भ में एक ही ग़ज़लकार की रचनायें हर माह प्रकाशित होंगी।आज सबसे पहले विनय मिश्र की ग़ज़लों से इस स्तम्भ की शुरुआत कर रहा हूँ।
विनय मिश्र वर्तमान दौर में ग़ज़ल विधा के एक सशक्त हस्ताक्षर हैं और ग़ज़ल के लिये पूरे मनोयोग से जुडे़ हुए हैं।
जीवन परिचय-जन्म तिथि-१२ अगस्त १९६६,शिक्षा-काशी हिन्दू विश्वविद्यालय,वाराणसी से एम०ए०,पी०एच०डी०[हिन्दी],देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में ग़ज़लों,कविताओं और आलेखों का प्रकाशन,’शब्द कारखाना’[हिन्दी त्रैमासिक]के ग़ज़ल अंक के अतिथि सम्पादक,सम्प्रति-राजकीय कला स्नातकोत्तर महाविद्यालय अलवर[राज०]के हिन्दी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत।


१-नहीं यूँ ही हवा बेकल है मुझमें-

नहीं यूँ ही हवा बेकल है मुझमें।
है कोई बात जो हलचल है मुझमें।
सुनाई दे रही है चीख कोई,
ये किसकी जिन्दगी घायल है मुझमें।
बहुत देखा बहुत कुछ देखना है,
अभी मीलों हरा जंगल है मुझमें।
लगाये साजिशों के पेड़ किसने,
फला जो नफ़रतों का फल है मुझमें।
बुझाई प्यास की भी प्यास जिसने,
अभी उस ज़िन्दगी का जल है मुझमें।
मेरी हर साँस है तेरी बदौलत,
तू ही तो ऐ हवा पागल है मुझमें।
सवालों में लगी हैं इतनी गाँठें,
कहूँ कैसे कि कोई हल है मुझमें।
दिनोंदिन और धँसती है ग़रीबी,
यूँ बढ़ता कर्ज़ का दलदल है मुझमें।
हवाओं में बिखरता जा रहा हूँ,
कहूँ कैसे सुरक्षित कल है मुझमें।


२-रौशनी है बुझी-बुझी अबतक-

रौशनी है बुझी-बुझी अबतक।
गुल खिलाती है तीरगी अबतक।
एक छोटी-सी चाह मिलने की,
वो भी पूरी नहीं हुई अबतक।
बात करता था जो जमाने की,
वो रहा खुद से अजनबी अबतक।
देखकर तुमको जितनी पाई थी,
उतनी पाई न फ़िर खुशी अबतक।
मौत को जीतने की खातिर ही,
दाँव पर है ये ज़िन्दगी अबतक।
मेरा का़तिल था मेरे अपनों में,
मुझको कोई ख़बर न थी अबतक।


३-गिरने न दिया मुझको हर बार संभाला है-

गिरने न दिया मुझको हर बार संभाला है।
यादों का तेरी कितना अनमोल उजाला है।
वो कैसे समझ पाये दुनिया की हकीक़त को,
सांचे में उसे अपने जब दुनिया ने ढाला है।
ये दिन भी परेशाँ है ये रात परेशाँ है,
लोगों ने सवालों को इस तरह उछाला है।
इंसानियत का मन्दिर अबतक न बना पाये,
वैसे तो हर इक जानिब मस्जिद है शिवाला है।
सपनों में भी जीवन है फुटपाथ पे सोते हैं,
जीने का हुनर अपना सदियों से निराला है।
सब एक खुदा के ही बन्दे हैं जहाँ भर में,
नज़रों में मेरी कोई अदना है न आला है।
गंगा भी नहा आये तन धुल भी गया लेकिन,
मन पापियों का अबतक काले का ही काला है।

४-एक सुबह की भरी ताज़गी अब भी है-

एक सुबह की भरी ताज़गी अब भी है।
इस उजास में एक नमी-सी अब भी है। 

ये दुनिया आज़ाद हुई कैसे कह दूँ,
ये दुनिया तो डर की मारी अब भी है।

 पेड़ बहुत हैं लेकिन सायेदार नहीं,
धूप सफ़र में थी जो तीखी अब भी है।

 उजड़ गया है मंजर खुशियों का लेकिन,
इक चाहत यादों में बैठी अब भी है। 

कान लगाकर इनसे आती चीख सुनो,
इन गीतों में घायल कोई अब भी है। 

हर पल दुविधाओं में रहती है लेकिन,
विश्वासों से भरी ज़िन्दगी अब भी है।


५-सूरजमुखी के फूल-

पूरब की ओर मुँह किये सूरजमुखी के फूल।
होते ही भोर खिल उठे सूरजमुखी के फूल।
उड़ने लगीं हवाइयाँ चेहरे पे ओस के,
जब खिलखिलाके हँस पड़े सूरजमुखी के फूल।
तुम दिन की बात करते हो लेकिन मेरे लिये,
रातों के भी हैं हौसले सूरजमुखी के फूल।
वो भी इन्हीं की याद में डूबा हुआ मिला,
जिसको पुकारते हैं ये सूरजमुखी के फूल।
सूरज का साथ देने की हिम्मत लिये हुए,
धरती की गोद में पले सूरजमुखी के फूल।
मुश्किल की तेज धूप का है सामना मगर,
जीते हैं सिर उठा के ये सूरजमुखी के फूल |
सूरज वो आसमान का मुझमें उतर पडा़,
इक बात ऐसी कह गये सूरजमुखी के फूल।